विश्व प्रसिध्द मूर्तिकार नरेश कुमावत ने फिर से बढ़ाई बनारस के नमो घाट की खूबसूरती

व्यक्ति विशेष

“नरेश कुमावत, एक नामी मूर्तिकार, ने काशी के गंगा किनारे पर 5 धंतुओं से 75 फीट ऊंची एक 1 लाख किलो वजन की मूर्ति का निर्माण किया। यह मूर्ति, जो केवल 60 दिनों के अभिलेखित समय में इंडिया ऑयल फाउंडेशन के सहयोग से बनाई गई है, देश को समर्पित की गई । इस मूर्ति का निर्माण 60 दिनों में पूरा होना विश्वासघातक है और इसे एक अजूबा के रूप में देखा जा सकता है।”

“नरेश कुमावत ने अपनी पूर्व योगदानों में कई अद्भुत मूर्तियों का निर्माण किया है, जिन्हें देश को समर्पित किया गया है। उनमें संसद भवन में समुंद्र मंथन की प्रतिभा, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर और सरदार वल्लभभाई पटेल की मूर्ति, टोरंटो में हनुमान जी की मूर्ति, शिमला के झाकू मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति, 300 शहीद जवानों की मूर्ति और विश्व की सबसे बड़ी शिव जी की मूर्ति भी शामिल है।”

वाराणसी की श्रेष्ठता: पीएम मोदी के नाम पर निर्मित नमो घाट”

“वाराणसी, भारत के प्राचीन शहरों में से एक, अपनी ऐतिहासिक और धार्मिक मेहत्वता के लिए प्रसिद्ध है। इस अनमोल नगरी में एक नया अध्याय शामिल हुआ जब 84 घाटों के किनारे बसे ‘नमो घाट’ का उद्घाटन किया गया। यह घाट, जो वरुणा से असि नदी के संगम के बीच स्थित है, भारतीय संस्कृति और आध्यात्मिक विरासत को और अधिक मेहत्वता देने के लिए बनाया गया है। नमो घाट का निर्माण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रेरणादायक दृष्टिकोण के तहत हुआ है, जो पौराणिकता और आधुनिकता के मेल को समझते हैं। यह नया घाट एक संगम स्थल है, जो सड़क, जल और वायु मार्ग से जुड़ा हुआ है, और इसे ‘नमो घाट’ के रूप में पहचाना जाता है। इस घाट को पूरी तरह से सूर्य नमस्कार को समर्पित किया गया है और यहां पर भारतीय संस्कृति और आध्यात्मिक जीवन की एक प्रतीति है। नमो घाट का निर्माण दो चरणों में किया गया है, और इसका काम पूरा हो चुका है। इस घाट का उद्घाटन वाराणसी के पर्यटन उद्यान को एक नया आयाम और गति प्रदान करेगा। इसका उद्घाटन भारत के पर्यटन के माध्यम से देश को भी एक और उत्साही उद्योग के रूप में बनाएगा। नमो घाट पर विशेष ध्यान दिया गया है कि यह दिव्यांग लोगों के लिए भी समर्पित हो, जिससे उन्हें भी माँ गंगा की श्रद्धा को महसूस करने का मौका मिले। इस नए घाट की लागत करीब 34 करोड़ रुपये है। नमो घाट पर विभिन्न प्रकार की गतिविधियाँ भी आयोजित की जाएंगी, जो पर्यटकों को भारतीय संस्कृति का अनुभव करने का मौका देंगी। इस घाट पर वाराणसी और आसपास के शहरों के साथ गेल इंडिया की तरफ से एक फ्लोटिंग सीएनजी स्टेशन भी लगाया गया है, जो लोगों को अधिक सुविधा प्रदान करेगा।

नरेश कुमावत: 3000 मूर्तियों के सृजनकर्ता”
मूर्तिकार नरेश कुमार कुमावत एक प्रसिद्ध और प्रतिष्ठित मूर्तिकार हैं जिन्होंने अपनी कला के माध्यम से देश और विदेश में अपना नाम रोशन किया है। उन्होंने अब तक हजारों मूर्तियाँ बनाई हैं और इस क्षेत्र में उनका योगदान अविस्मरणीय है | नरेश कुमावत ने लगभग 80 देशों में भारत सहित अधिकांश विश्व के कई देशों में 200 से अधिक मूर्तियाँ बनाई हैं। उनकी मूर्तियों में साहित्यिक, सांस्कृतिक और धार्मिक अर्थ समेटे गए हैं जो व्यक्ति को अपने आध्यात्मिक और सांस्कृतिक अंशों से जोड़ती हैं। नरेश कुमावत ने देश भर में 3000 से अधिक मूर्तियाँ बनाई हैं, जिनमें नमो घाट से कबीर चौराहे तक कई महत्वपूर्ण स्थलों पर उनका योगदान विशेष रूप से उजागर है। उनके द्वारा बनाई गई परशुराम मूर्ति, भगवान राम और निशाद राज की मूर्ति ने उनकी कला का महत्वपूर्ण स्थान हासिल किया है।इसके अतिरिक्त, उन्होंने विश्व की सबसे ऊँची भगवान शंकर की मूर्ति का निर्माण किया है, जो एक अद्वितीय कला का प्रतीक है।

इस मूर्ति का निर्माण एक उच्च स्तरीय मानक के साथ किया गया था और इसने दुनिया भर में चर्चा और प्रशंसा प्राप्त की। नरेश कुमावत की मूर्तिकला में उन्होंने न केवल एक विशेष क्षेत्र में उच्च स्तर की मान्यता प्राप्त की है, बल्कि उन्होंने समाज को आत्मनिर्भर और समृद्ध बनाने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनके द्वारा बनाई गई मूर्तियाँ समाज में सामाजिक और आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करती हैं और सामाजिक सद्भावना को बढ़ावा देती हैं। नरेश कुमावत की महान कला और उनका समाजसेवी योगदान सम्मान और प्रशंसा के पात्र हैं। उनकी मूर्तिकला न केवल कला की महानता को प्रतिष्ठित करती है, बल्कि उसमें समाज के आध्यात्मिक और सांस्कृतिक उत्थान की भी प्रेरणा छुपी है।

श्री नरेश कुमावत का बचपन: एक व्यक्तित्व अवलोकन”

“मूर्तिकला कलाकार नरेश कुमावत ने बताया कि उनकी कुल तीन पीढ़ियाँ मूर्तिकला के क्षेत्र में सक्रिय रही हैं। उनके परिवार के पुरुषों का नाम देश में उच्च प्रतिष्ठा प्राप्त है। उनके पिताजी ने अपने समय में बड़ी मूर्तियों को 3D आकार दिया था, जो उस समय नवीनतम और अद्वितीय था।

अपने व्यक्तित्व का वर्णन करते हुए, नरेश कुमावत कहते हैं, “मैं पिलानी, राजस्थान से हूं। वहाँ मेरा परिवार तीसरी पीढ़ी में इस क्षेत्र में काम कर रहा है। मेरे दादाजी हनुमान प्रसाद पत्थर कारी में कुशल थे, जो सीकर परिवार से थे। उन्होंने विश्व में एकमात्र माँ सरस्वती के मंदिर के लिए विशाल योगदान दिया। उन्होंने बिरला परिवार के लिए भी कई मूर्तियाँ बनाई। मेरे पिताजी माथु राम वर्मा शिक्षक थे, जिन्हें बसंत कुमार बिरला ने पहले मौका दिया। दिल्ली हवाई अड्डे के पास का शिवमूर्ति मेरे पिताजी का पहला कार्य था। उन्होंने 80 के दशक में राजा रवि वर्मा के तरह हमारे देवी-देवताओं को 3D रूप दिया। यह देश की पहली बड़ी मूर्ति थी। हालांकि, उसके बाद पिताजी फिर से पिलानी वापस आ गए, जहाँ उन्होंने अपना शिक्षण कार्य फिर से शुरू किया। नरेश कुमावत बताते हैं कि बचपन से ही वह कुछ नया और सृजनात्मक काम करना चाहते थे। वह बताते हैं, “जब मैंने 12वीं कक्षा पास की तो मेरे दिमाग में भी था कि मैं डॉक्टर या इंजीनियर बनूं, लेकिन मैं उस परीक्षा में सफल नहीं हो सका। इसके बाद पिताजी ने मुझे सलाह दी कि मैं बीए कर लूं और बिरला जी के यहां नौकरी पाऊं, लेकिन मेरे ख्याल थे कुछ अन्य बड़ा करने के, मेरे खून में सृजनात्मक काम करने की ख्वाहिश थी। मुझे वहां से पहला काम गुलशन कुमार की टी-सीरीज में मिला, जो कि फिल्म सिटी, नोएडा में है। उस समय मैं केवल सीख रहा था, वहां काम करने के लिए मुझे प्रतिदिन 60 रुपये मिलते थे। उसके बाद, मैंने नोएडा से दिल्ली तक काम करना शुरू किया।”

नरेश कुमावत: प्रारंभिक आरंभों का इतिहास”

देश-विदेश में अपने उत्कृष्ट कला कार्यों से मशहूर, नरेश कुमावत एक प्रमुख कलाकार बन चुके हैं। उन्होंने अपने कार्य के माध्यम से समाज में संदेश पहुंचाते हुए उच्चतम मानकों को स्थापित किया है। नरेश कुमावत ने अपनी शुरुआती कार्यक्षेत्र में अपनी पहचान बनाई। उन्हें गुजरात के वडोदरा में सुरसागर तालाब में 121 फीट ऊंची शंकर भगवान की मूर्ति बनाने का मौका मिला था। उन्होंने इस कार्य को अपने पिताजी के मार्गदर्शन में पूरा किया, जिसमें उन्हें फाइन आर्ट्स के कोर्स में विशेषज्ञता प्राप्त हुई थी। इस महत्वपूर्ण कला कार्य में उन्हें 2001 में तत्कालीन मुख्यमंत्री और वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने सम्मानित किया था।

इसके बाद, नरेश कुमावत का कला क्षेत्र में अधिक अनुभव मिला, जब उन्हें मॉरीशस में काम करने का अवसर प्राप्त हुआ। वहां के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. नवीन चंद्र रामगुलाम ने उन्हें उनकी कला को सम्मानित करते हुए प्रोत्साहित किया। नरेश  कुमावत का यह सफर देश और विदेश के कला प्रेमियों के बीच आदर्श बन गया है, जो संघर्ष, प्रयास और प्रतिभा की एक उत्कृष्ट मिसाल प्रस्तुत करता है।

सशक्तीकरण नरेश कुमावत: स्थायी सहायता की कहानी”
नरेश कुमावत, एक विद्यार्थी से कला के क्षेत्र में निर्माण के रास्ते तक के सफर को अद्वितीय और प्रेरणादायक तरीके से व्यक्त करते हुए एक नाम हैं। उनके अनुभव से जुड़ी बातचीत में, नरेश कुमावत ने कहा, “कुछ समय बाद मैंने अपना स्टूडियो नोएडा में बनाया और टेक्नोलॉजी की समझ प्राप्त की। मिराज ग्रुप के मदन पालीवाल जी ने मुझसे कहा कि एक 350 फीट ऊंची मूर्ति का निर्माण करना है। लेकिन वह काम कठिन था। मुझे उसे बनाने के लिए नई मशीनों की आवश्यकता थी, जो कनाडा से आती थी। मदन पालीवाल जी ने मुझे वो रकम दी और कहा कि मशीन खरीद लूं। यह एक सपने की तरह था।” वे अपने संघर्ष के दिनों की याद करते हुए जारी करते हैं, “हमें उस समय वह मशीनें चलानी नहीं आती थीं। हमने एक ट्रेनर रखा जिन्होंने हमसे 15 दिनों में 15 लाख रुपये लिए, हालांकि उस दौरान मैं अन्य कामों में व्यस्त था, इसलिए मैंने एक लड़के को कहा कि वह ट्रेनिंग लें।

” नरेश कुमावत ने अपने विशेषज्ञता और समर्पण से कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं का सफलतापूर्वक निर्वाह किया है, जिसमें राजस्थान के नाथवाड़ा में बनी दुनिया की सबसे ऊँची शंकर भगवान की मूर्ति और विजयवाड़ा में बनी 125 फीट ऊंची बाबा साहब भीमराव आंबेडकर की मूर्ति शामिल हैं।

नए संसद में 75 फीट के ‘समुद्र मंथन, सरदार वल्लभभाई पटेल और भीमराव आम्बडेकर मूर्ति के पीछे के ज्ञाता”

“प्रतिष्ठित समुद्र मंथन के निर्माण को साझा करते हुए उन्होंने व्यक्त किया कि यह प्रक्रिया माप के साथ शुरू हुई। दीवार का आयाम 75 फीट गुणा 9 फीट था और उन्होंने सबसे पहले उसी आयाम के कागज पर मंथन का एक रेखाचित्र तैयार किया। विवरण और डिज़ाइन को अंतिम रूप देने के बाद उन्होंने मिट्टी से मूर्ति बनाई। मॉडलिंग क्ले से बनी इन संरचनाओं में धातु की ढलाई की जाती थी। एक बात का ध्यान रखा गया कि चित्र में सभी चेहरे भारतीय चेहरे हैं, मूर्तिकला में भारतीयता को अभिव्यक्त किया गया। ढलाई के बाद लगभग 46 टुकड़े संसद भवन में ले जाए गए और फिर उन्हें दीवार पर अलग-अलग जोड़ दिया गया। मूर्ति का वजन कुल 12 टन था। अंतिम संरचना लगभग आठ महीनों में तैयार की गई थी। कुमावत ने बताया कि वह पिछले आठ महीनों से दिन-रात काम कर रहे हैं और उन्हें लगता है कि उनकी सारी मेहनत सार्थक रही।

संसद भवन में अपने अन्य योगदान के बारे में कुमावत ने कहा, “मैंने 20 फीट ऊंची धातु की शीट पर सरदार वल्लभ भाई पटेल और बाबा साहेब अंबेडकर के चेहरे उकेरे हैं। उन्होंने संसद भवन के अंदर स्थापित चाणक्य मूर्ति पर भी काम किया। ये सभी मूर्तियां पंचधातु से बनी हैं। कुमावत कई पीढ़ियों से ललित कला और मूर्तिकला में काम कर रहे हैं। वह मूर्तिकला व्यवसाय में आने वाली अपने परिवार की तीसरी पीढ़ी हैं। उनका कहना है कि उन्होंने तकनीक के साथ काम के पैटर्न में बदलाव किया है। मानेसर, गुड़गांव में उनके स्टूडियो में उनके पास एक 3-आयामी स्कैनर, राउटर और सॉफ्टवेयर है जो उन्हें वास्तविक जीवन की मूर्तियां तैयार करने मे सहायता करता है “संसद विचारों के मंथन का केंद्र है, समुद्र मंथन’ मूर्तिकला बनाने वाले नरेश कुमावत “दिनांक २६ जनवरी, भारत के संविधान दिवस के अवसर पर, संविधान निर्माण कमेटी के अध्यक्ष, डॉ. भीमराव रामजी अंबेडकर की सात फुट की प्रतिमा का सुप्रीम कोर्ट में अनावरण किया गया, जिसका निर्माण करने वाले मूर्तिकार कुमावत थे।”

शिल्पकार कुमावत: टोरंटो, कनाडा में सबसे ऊँची हनुमान मूर्ति के निर्माता”
“अप्रैल में, कनाडा में हिंदू देवता का सबसे ऊंचा प्रतिनिधित्व करने वाली 55 फीट ऊंची हनुमान प्रतिमा का अनावरण हुआ। इस प्रतिमा का निर्माण राजस्थान के मूर्तिकार नरेश कुमावत ने किया है और इसे स्थानीय मंदिर प्रबंधन द्वारा वित्त पोषित किया गया है। यह औपचारिक रूप से 23 अप्रैल को कनाडा के ब्रैम्पटन में हिंदू सभा मंदिर में अनावरण किया  गया, जो कि हनुमान जयंती के अवसर पर हुआ। कुमावत ने अपनी विशेषज्ञता के साथ हिंदू देवी-देवताओं को गढ़ने में अपना योगदान दिया है, और इससे पहले भी वे कनाडा की पूर्व सबसे ऊंची हनुमान प्रतिमा का निर्माण कर चुके हैं, जो वॉयस ऑफ वेदाज मंदिर में 50 फीट ऊंची थी।

नरेश कुमावत द्वारा बनाई गई हनुमान जी की १०८ फीट की प्रतिमा”
श्री हनुमान जी की १०८ फीट की प्रतिमा जाखू शिमला में स्थित है, जो जाखू पहाड़ी के नीचे जाखू मंदिर की परिधि में स्थित है। यह मूर्ति दुनिया की सबसे ऊंची मूर्तियों में से एक है, जिसकी ऊंचाई ३३ मीटर (१०८ फीट) है। इसका निर्माण करने वाले हैं मूर्तिकार नरेश कुमावत जिसका कार्य २००८ में शुरू हुआ और २०१० में पूरा हुआ, जिसका उद्घाटन और निर्माण भारत की सबसे बड़ी ओरल-केयर निर्माता कंपनी जेएचएस स्वेन्दगार्ड लेबोरेटरीज लिमिटेड के प्रबंध निदेशक निखिल नंदा और हिमाचल प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने किया था। यह स्टॉ एचसी नंदा चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा राज्य को एक उपहार है। यह प्रतिमा १०८ फीट ऊंची है, और ८,८५० फीट ऊंची पहाड़ी की चोटी से शिमला शहर का दृश्य प्रस्तुत करती है। इसकी तुलना में, यह ब्राजील की क्राइस्ट द रिडीमर प्रतिमा से भी आगे है, जो 98 फीट ऊंची है। इसे दुनिया में श्री हनुमान की सबसे ऊंची प्रतिमा के रूप में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। यह प्रतिमा पेड़ों से बहुत ऊपर है और शिमला के कई स्थानों से दिखाई देती है। प्रतिमा के आसपास के क्षेत्र को विकसित किया गया है ताकि आने वाले परिवार यहां आराम से समय बिता सकें। देश के विभिन्न हिस्सों से कई भक्त शक्ति, शांति और पवित्रता की तलाश के लिए प्रतिदिन मंदिर में आते हैं।

विश्व की सर्वोच्च शिव प्रतिमा: महान और प्रतिष्ठित”
“आस्था का प्रतीक या आस्था का स्वरूप: भारत के राजस्थान के नाथद्वारा में स्थित हिंदू देवता शिव शंकर की विश्वासनीय प्रतिमा। इस महान और प्रतिष्ठित प्रतिमा की रचना मूर्तिकार नरेश कुमावत द्वारा की गई थी और इसका उद्घाटन 29 अक्टूबर 2022 को हुआ था। ‘स्टैच्यू ऑफ बिलीफ’ दुनिया में भगवान शिव की सबसे ऊंची मूर्ति है। इस प्रतिमा में भगवान शिव को अपने पैरों को मोड़कर बैठे हुए और अपने बाएं हाथ में त्रिशूल पकड़े हुए दिखाया गया है। इसकी ऊंचाई कुल ३६९ फीट है, और यह २० किलोमीटर दूर से भी दिखाई जा सकती है। प्रतिमा का अंतरिक भाग एक प्रदर्शनी हॉल के साथ-साथ २० फीट, ११० फीट, और २७० फीट पर लिफ्ट द्वारा पहुंच योग्य सार्वजनिक दर्शकों को दीर्घाएँ हैं। प्रतिमा की डिज़ाइन २०११ में शुरू हुआ, निर्माण २०१६ में शुरू हुआ और २०२० में पूरा हुआ। इस प्रतिमा की कल्पना भारतीय व्यवसायी मदन पालीवाल ने की थी और इसका निर्माण शापूरजी पालोनजी ने किया था। सतह पर तरलीकृत जस्ता का छिड़काव किया गया, फिर तांबे का लेप लगाया गया।”