सिटी एनसीपीए- आदि अनंत के साथ एनसीपीए मुंबई, देश की राजधानी में कदम रखने के लिए तैयार है

बिज़नेस

इस फेस्टिवल में झाकीर हुसैन, कला रामनाथ और जयंती कुमरेश जैसे दिग्गज कलाकार शामिल होंगे और मामे खान के साथ 47 लोक कलाकार एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियाँ देंगे

दिल्ली, जनवरी 2024: मुंबई में तीन कॉन्सर्ट्स की शानदार सफलता के बाद, देश का प्रमुख कला और सांस्कृतिक केंद्र, नेशनल सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स (एनसीपीए), मुंबई, अपने वार्षिक म्यूजिक फेस्टिवल- आदि अनंत के दो प्रतिष्ठित कॉन्सर्ट्स प्रस्तुत करने के लिए दिल्ली का दौरा करेगा। भारतीय संगीत के दिग्गजों के साथ उच्च क्षमता वाले कॉन्सर्ट्स का आयोजन करने का इसका शानदार इतिहास रहा है। ऐसे में, सिटी-एनसीपीए आदि अनंत उत्सव का 13वाँ संस्करण गुरु-शिष्य परंपरा और भारत की समृद्ध संगीत परंपराओं की जीवंतता का जश्न मनाने का प्रयास करता है। इसमें विभिन्न पीढ़ियों के कलाकार शास्त्रीय और उपशास्त्रीय से लेकर लोक और लाइट क्लासिकल म्यूजिक की शैलियों में प्रस्तुति देंगे और सामूहिक रूप से भारतीय संगीत परंपराओं की विस्तृत विभिन्नता को परिभाषित करेंगे।

पहले कॉन्सर्ट का आयोजन 27 जनवरी को होगा, जिसमें मामे खान 47 लोक कलाकारों के साथ प्रस्तुति देंगे, जिसमें मांगनियार समुदाय के गायकों और वाद्ययंत्र वादकों का एक ऑर्केस्ट्रा शामिल होगा। यह शाम पश्चिमी राजस्थान के जीवंत लोक संगीत का अनुभव देने का वादा करती है। 28 तारीख को ‘त्रिवेणी’ नामक एक अनूठी प्रस्तुति होगी, जिसमें झाकीर हुसैन (तबला), कला रामनाथ (वायलिन) और जयंती कुमरेश (सरस्वती वीणा) शामिल होंगे। इस कार्यक्रम का संकलन भारत में तीन पवित्र नदियों के मिलन के पौराणिक स्थल पर आधारित है। यह नाम उपयुक्त रूप से तीनों कलाकारों की परंपराओं के संगम का प्रतिनिधित्व करता है।

दिल्ली में एनसीपीए फेस्टिवल के आयोजन पर बात करते हुए, डॉ. सुवर्णलता राव, भारतीय संगीत की प्रोग्रामिंग प्रमुख ने कहा, “आदि अनंत फेस्टिवल देश की समृद्ध कला, संस्कृति और विरासत को बनाए रखने के लिए एनसीपीए के प्रयासों का प्रतिनिधित्व करता है और हमें एक बार फिर अपनी प्रस्तुति दिल्ली में लाकर खुशी हो रही है। सिटी इंडिया के साथ साझेदारी करना हमारे लिए गर्व का विषय है। हमारे देश की परंपराओं और संस्कृति को संरक्षित करने, स्थापित और उभरती प्रतिभाओं को बढ़ावा देने और भारतीय संगीत के लिए आदि अनंत और गुरु-शिष्य कार्यक्रम जैसे अद्वितीय सहयोग के माध्यम से संगीत शिक्षा को सक्षम करने के लिए हमारे जुनून और प्रतिबद्धता को साझा करना बहुत खुशी की बात है। हम मानते हैं कि कला और संस्कृति किसी देश के समुदाय के आंतरिक स्तंभ हैं, और हमें पूरी उम्मीद है कि दिल्ली के दर्शक भारतीय संगीत परंपरा को बढ़ावा देने और इन कॉन्सर्ट्स के माध्यम से भावी पीढ़ियों को पोषित करने के हमारे सामूहिक प्रयासों में शामिल होंगे।”

दोनों शोज़ का मंचन जोरावर ऑडिटोरियम, मानेकशॉ सेंटर, नई दिल्ली में शाम 6:30 बजे किया जाएगा।

टिकट्स बुकमायशो पर उपलब्ध हैं।