100 करोड़ के बैंक फ्रॉड के जूठे आरोप के बीच भी सूरत की हाईटेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजी कंपनी अब यूरोपीय बाजार में कर रही है प्रवेश

बिज़नेस

कंपनी पर जूठे आरोप लगाकर बदनाम करने का षड्यंत्र रचने वालों के खिलाफ कोर्ट में दायर किया गया 500 करोड़ की मानहानि का दावा

हाईटेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजी कंपनी के संचालक विजय शाह ने कहा कि हाईटेक कंपनी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत, स्वच्छ जल और मेक इन इंडिया अभियान को सफल बनाने में जुटी हुई है। वर्ष 1999 में एक छोटी पैमाने पर  कंपनी शुरू की गई थी। आज  कंपनी में 2000  कर्मचारी कार्यरत और कंपनी की प्रगति में अपना योगदान दे रहे हैं।  यानी 2000 परिवार कंपनी से जुड़े हुए हैं। कंपनी अब यूरोपीय बाजार में प्रवेश करने जा रही है। इसके तहत  हाल ही में एम्स्टर्डम में आयोजित एक्वाटेक प्रदर्शनी में भी कंपनी ने भाग लिया था।  हाईटेक कंपनी का शुरू से ही एक ही लक्ष्य है, सभी को साफ पानी मिले और मेक इन इंडिया अभियान के सपने को साकार करने में कंपनी का योगदान देश में अहम योगदान होने के और रोजगार के अवसर पैदा करे। आज हाईटेक कंपनी इसी लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ रही है और 2000 परिवार कंपनी के साथ हैं। इस परिवार को और भी बड़ा बनाने के लिए कंपनी लगातार प्रयास कर रही है।

विजय शाह ने कहा कि हाईटेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजी कंपनी आर्थिक रूप से सक्षम है और कंपनी अपनी प्रोडेक्ट विश्वभर में पहुंचाने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रही है। हालाकि  कंपनी का यह विकास कुछ लोगों से सहन नहीं हो रहा और कंपनी पर झूठे आरोप लगाकर बदनाम करने की साजिश की जा रही है। हाल ही में   मीडिया में यह अप्रमाणित खबर छपी कि एक हाई- टेक कंपनी के  शाह दंपत्ति कर्ज चुकाए बिना अमेरिका भाग गए हैं। आज हम आप सबके सामने हैं तो ये कैसे कहा जा सकता है कि हम भाग गए।  बैंक ऑफ बड़ौदा की ओर से खुद यह घोषणा की गई है कि हाईटेक कंपनी बैंक के अच्छे ग्राहकों में से एक है। कंपनी आज भी मजबूत है और यह स्पष्ट है कि कंपनी अब यूरोप में विस्तार कर रही है। यह निराधार आरोप  कश्यप इंफ्राप्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के हिरेन भावसार द्वारा लगाए गए थे, जो हाई- टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज के साथ व्यापारिक विवादों का इतिहास रखने वाला व्यक्ति है। इसके अलावा पूर्व में कैलाश लोहिया ने कंपनी की बिहार जल परियोजना में भी धोखाधड़ी की थी। परियोजना के लिए घटिया सौर पैनल/ पंप की आपूर्ति हिरेन भावसार द्वारा की गई थी। कैलाश लोहिया ने अवैध रूप से हाई- टेक स्वीट वाटर टेक्नोलॉजीज ग्रुप कंपनी के शेयरों को अपने नाम पर स्थानांतरित कर लिया और अपनी पत्नी दिशा लोहिया के नाम पर पर्याप्त धनराशि का दुरुपयोग किया। इस संबंध में कंपनी द्वारा कैलाश लोहिया और उसकी पत्नी दिशा लोहिया के खिलाफ एक आपराधिक मामला भी दायर किया गया था और कैलाश लोहिया को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। जेल की सजा काटने के बाद वर्तमान में दोनों जमानत पर है। इस मामले हाई टेक स्वीट वॉटर कंपनी द्वारा हिरेन भावसार, कैलाश लोहिया और कश्यप इंफा टेक के खिलाफ सूरत कोर्ट में कंपनी को गलत तरीके से बदनाम करने के लिए 500 करोड़ रुपये का मानहानि का दावा भी दायर किया गया है।