भू-राजनीतिक युद्ध के बीच भारतीय शेयरों को कैसे नेविगेट करें

बिज़नेस

चल रहे भू-राजनीतिक युद्ध ने वैश्विक बाजारों को सदमे में डाल दिया है और भारतीय शेयर भी इससे अछूते नहीं हैं। भारतीय शेयर बाजार हाल के महीनों में अस्थिर रहा है और निवेशक भारतीय अर्थव्यवस्था और कॉर्पोरेट आय पर युद्ध के संभावित प्रभाव का आकलन कर रहे हैं।

भारतीय शेयरों पर युद्ध का प्रभाव

युद्ध का अब तक भारतीय शेयरों पर मिला-जुला असर रहा है। एक ओर, युद्ध के कारण कमोडिटी की कीमतें बढ़ गईं, जिससे भारतीय कंपनियों की लाभप्रदता प्रभावित हुई। उदाहरण के लिए, इंडियन ओयल और गैस कंपनियों ने कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के कारण अपने मार्जिन में कमी देखी है।

दूसरी ओर, युद्ध के कारण फार्मास्यूटिकल्स, आईटी सेवाओं और इंजीनियरिंग सामान जैसे भारतीय निर्यात की मांग भी बढ़ गई है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बाजार की अनिश्चितता के समय में भारत को निवेश के लिए एक सुरक्षित आश्रय स्थल के रूप में देखा जाता है।

द इकोनॉमिक टाइम्स की हालिया समाचार रिपोर्ट में इस तथ्य पर प्रकाश डाला गया है कि युद्ध की शुरुआत के बाद से भारतीय शेयर बाजार ने अन्य उभरते बाजारों से बेहतर प्रदर्शन किया है। 17 अगस्त को युद्ध शुरू होने के बाद से निफ्टी 50 इंडेक्स लगभग 10% गिर गया है, जबकि एमएससीआई इमर्जिंग मार्केट इंडेक्स लगभग 20% गिर गया है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारतीय शेयर बाजार को हाल के महीनों में मजबूत विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई- FII) प्रवाह से समर्थन मिला है। साल की शुरुआत से एफआईआई ने भारतीय शेयरों में 10 अरब डॉलर से अधिक का शुद्ध निवेश किया है।

ब्लूमबर्ग इंटेलिजेंस की एक अन्य समाचार रिपोर्ट ने इस तथ्य पर प्रकाश डाला कि भारतीय शेयर आकर्षक मूल्यांकन पर कारोबार कर रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि निफ्टी 50 इंडेक्स लगभग 15x के प्राइज-टु-अर्निंग (पी/ई) अनुपात पर कारोबार कर रहा है, जो इसके ऐतिहासिक औसत से नीचे है।

इस बेहतर प्रदर्शन का श्रेय कई कारकों को दिया जा सकता है, जिनमें भारत की मजबूत आर्थिक वृद्धि, रूस और यूक्रेन में इसका अपेक्षाकृत कम जोखिम और इसका आकर्षक मूल्यांकन शामिल हैं।

भारत में अग्रणी ऑनलाइन स्टॉकब्रोकिंग फर्म ऐलिसब्लू के संस्थापक और सीईओ सिद्धवेलयुथम मोहनमूर्ति ने भारतीय शेयरों की स्थिति के बारे में यह कहा:

“हाल के महीनों में चल रहे भू-राजनीतिक युद्ध के बावजूद, भारतीय शेयर बाजार ने लचीलापन दिखाया है। यह कई कारकों के कारण है, जिसमें भारत की मजबूत आर्थिक वृद्धि, प्रभावित देशों पर देश की कम निर्भरता और इसके आकर्षक मूल्यांकन शामिल हैं।

हालाँकि, निवेशक भारतीय अर्थव्यवस्था और कॉर्पोरेट आय पर युद्ध के संभावित प्रभाव को लेकर सतर्क हैं। निवेशकों के लिए मौजूदा बाजार माहौल में भारतीय शेयरों में निवेश करते समय सतर्क रुख अपनाना और मजबूत बुनियादी सिद्धांतों वाली गुणवत्ता वाली कंपनियों पर ध्यान केंद्रित करना महत्वपूर्ण है।”

भारतीय स्टॉक्स को कैसे नेविगेट करें

मौजूदा अस्थिर बाजार माहौल में निवेशकों के लिए भारतीय शेयरों में निवेश करते समय सतर्क रुख अपनाना जरूरी है। यहां कुछ सलाह दी गई हैं:

मजबूत फंडामेन्टल्स वाली गुणवत्तापूर्ण कंपनियों पर ध्यान केंद्रित करें: मजबूत फंडामेन्टल्स वाली कंपनियों में निवेश पर ध्यान केंद्रित करें, जैसे कि एक स्वस्थ बैलेंस शीट, लाभप्रदता का एक सिद्ध ट्रैक रिकॉर्ड और प्रतिस्पर्धी लाभ। ये कंपनियां मौजूदा बाजार परिवेश की चुनौतियों का सामना करने के लिए बेहतर स्थिति में हैं।

लंबी अवधि के लिए निवेश करें: छोटी अवधि के व्यापार से बचें और लंबी अवधि के लिए निवेश करें। इससे आपको बाज़ार में अस्थिरता पर काबू पाने और समय के साथ बेहतर रिटर्न प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाएं: विभिन्न क्षेत्रों और एसेट क्लास में अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाएं। इससे आपके जोखिम जोखिम को कम करने और आपकी पूंजी की सुरक्षा करने में मदद मिलेगी।

निष्कर्ष

मौजूदा भू-राजनीतिक युद्ध और अन्य कारकों के कारण भारतीय शेयर बाजार निकट अवधि में अस्थिर रहने की संभावना है। हालाँकि, भारत की मजबूत आर्थिक वृद्धि और इसका आकर्षक मूल्यांकन इसे लंबी अवधि के लिए एक आकर्षक निवेश गंतव्य बनाता है।

जैसे-जैसे वैश्विक भू-राजनीतिक परिदृश्य विकसित हो रहा है, सूचित रहना और उसके अनुसार निवेश रणनीतियों को अपनाना सफलता की कुंजी होगी। अंतर्दृष्टि को अपनाकर, रुझानों का विश्लेषण करके और विशेषज्ञ की सलाह लेकर, निवेशक लचीलेपन और दूरदर्शिता के साथ भारतीय शेयर बाजार की जटिलताओं से निपट सकते हैं।