नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट के तत्वावधान में ” नूनरोटी” प्रीमियर शो

फ़ोटो गैलेरी

नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट के मुरारी ठाकुर , वरिष्ठ समाज सेवीशुभचंद्र मिश्रा,श्री जय नारायण झा ,”नूनरोटीमैथिली वेबसीरीज के निर्मातानिर्देशक श्विकास झा , रौशनी झाऔर कलाकार आदर्श भारद्वाज साथ में वरिष्ठ साउंड इंजीनियर श्री शंकर सिंह जी

नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट की स्थापना, नवी मुम्बई के प्रवासी मैथिलों को सामाजिक और सांस्कृतिक रुप से जोड़े रखने के लिये आज से एक दशक पूर्व खारघर के सेंट्रल पार्क में हुई थी और अपनी स्थापना के बाद से ही नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट विंभिन्न प्रकार के सामाजिक सांस्कृतिक गतिविधियां करती रही है।

नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट के तत्वावधान में, पहले मैथिली वेबसीरीज ” नूनरोटी” का सशुल्क प्रीमियर शो, नवी मुम्बई के जुईनगर स्थित बन्ट्स सेन्टर ऑडिटोरियम में बड़े उत्साह और उल्लास के साथ दिनांक १४ जनवरी २०२४ रविवार को आयोजित हुआ।

इस कार्यक्रम में मैथिली वेबसीरीज “नूनरोटी” के आठो एपीसोड के साथ-साथ, मैथिली भाषा-संस्कृति पर व्याख्यान, बच्चों के बीच मैथिली शब्दों को लेकर प्रश्नोत्तरी आदि की प्रस्तुति हुई। शो की शुरुआत पारंपरिक मैथिली भगवती गीत “जय जय भैरवी” की प्रस्तुति से हुई, जिसमें मिथिला की लोकप्रिय गायिका शारदा सिन्हा जी द्वारा गाए गीत पर मिथिला की बेटी गौरांगी चौधरी द्वारा भावपूर्ण भरतनाट्यम नृत्य प्रस्तुत किया गया। बताते चलें कि गौरांगी, मिथिला के अमर शहीद सतीश चंद्र झा, जो कि बिहार सचिवालय पर झंडा फहराने वाले 7 शहीदों में से एक थे, के बांका जिलान्तर्गत “खरहड़ा” गाँव की मूल निवासी हैं और मुम्बई में रहती हैं।

इस कार्यक्रम का आयोजन आम मैथिल लोगों की जन सहभागिता से हुआ था और दर्शकों के लिए प्रवेश शुल्क  रू 500/- रखा गया था। ज्ञात हो, नूनरोटी मैथिली वेबसीरीज के निर्माण भी कुछ हद तक क्राउड फंडिंग से हुआ है। आम मैथिलों के सहयोग से किसी फिल्म आदि शो के इतने भव्य आयोजन का ये पहला अवसर था जो अपने आप में एतिहासिक है। दर्शकों से खचाखच भरे ऑडीटोरियम में मिथिलावासियों का उत्साह और उमंग चरमसीमा पर था ।

ज्ञातव्य हो कि नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट की स्थापना, नवी मुम्बई के प्रवासी मैथिलों को सामाजिक और सांस्कृतिक रुप से जोड़े रखने के लिये आज से एक दशक पूर्व खारघर के सेंट्रल पार्क में हुई थी और अपनी स्थापना के बाद से ही नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट विंभिन्न प्रकार के सामाजिक व सांस्कृतिक गतिविधियां करती आ रही है। मिथिलांचल एक सांस्कृतिक समृद्धि और भाषा से समृद्ध प्रदेश है,जो पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों में स्थित है। मैथिली भाषा एक भारतीय भाषा है जो प्रमाणपत्र में भी लिखी जाती है और इसे मैथिली भाषा कहा जाता है। मुख्य रूप से यह बिहार राज्य के मध्य और पूर्वी भाग, नेपाल के तराई क्षेत्र, और बंगलादेश के पूर्वी हिस्से में बोली जाती है।मैथिल साहित्य, कला, संस्कृति, और परंपराएं बहुत धार्मिक और सामाजिक पृष्ठभूमियों पर आधारित हैं। मैथिल लोगों की अपनी विशेष संस्कृति, पर्व-त्योहार और उनका खाद्य पदार्थ भी प्रमुख हैं। नवी मुंबई मैथिल ट्रस्ट सामाजिक पहलुओं को बनाए रखने के लिए कई अपनी भाषा, साहित्य और सांस्कृतिक विरासत की रक्षा और समृद्धि के लिए काम करते हैं। इनमें से कुछ अपने क्षेत्र में शिक्षा, साहित्य, व्यापार और कला के क्षेत्र में कार्यरत हैं।

“नूनरोटी” मैथिली वेबसीरीज के प्रीमियर शो के अवसर पर नवी मुम्बई मैथिल ट्रस्ट के पदाधिकारीगण  जिन्होंने इस कार्यक्रम की सफलता में सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, में  कृष्णकांत झा,  राजन झा और  मुरारी ठाकुर के साथ-साथ वरिष्ठ समाज सेवी  शुभचंद्र मिश्रा , जय नारायण झा , प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ अनीश ठाकुर , “नूनरोटी” मैथिली वेबसीरीज के निर्माता- निर्देशक  विकास झा , रौशनी झा  और कलाकार आदर्श भारद्वाज साथ में वरिष्ठ साउंड इंजीनियर शंकर सिंह  उपस्थित रहे।