हरियाणा के जाटों की हैरान कर देने वाली बातें : डॉ विवेक बिंद्रा

देश दुनिया

हरियाणा भारत देश का एक ऐसा राज्य है जिसे हरि यानि भगवान का घर कहा जाता है, यही पर भगवान कृष्ण ने गीता अर्जुन को सुनाई थी। जितनी पवित्र यहां की धरती है उतने ही प्यारे और हौंसले वाले यहां के लोग भी हैं। मैं आपको आज बताऊंगा हरियाणा के लोगों के हुनर और हौंसले की कहानी।

जुबान से थोड़े कठोर दिखने वाले हरियाणा के जाटों के विषय में कहा जाता है कि “अनपढ़ जाट पढ़ा जैसा, पढ़ा जाट खुदा जैसा”। इसका उदाहरण है ये अगला किस्सा, एक जमींदार मरने से पहले अपने तीन बच्चों में सारी संपत्ति को बांट कर गया, उसकी संपत्ति में शामिल थे 19 घोड़े। अपनी वसीयत में उसने लिखा था कि बड़े बेटे को आधे घोड़े दिए जाएं, बीच वाले बेटे को एक चौथाई घोड़े दिए जाएं और सबसे छोटे बेटे को पांचवा हिस्सा दिया जाए। 19 घोड़े होने के कारण ये बंटवारा कर पाना बेहद मुश्किल हो रहा था।

ये मुश्किल मामला दिल्ली के बादशाह बलबन के दरबार में पहुंचा, जहां बादशाह के कवि अमीर खुसरो की सलाह पर सोनीपत से पंच चौधरी रामसहाय को बुलाया गया। चौधरी रामसहाय अपने घोड़े पर सवार होकर दिल्ली पहुंचे और पूरा मामला समझा। पंच रामसहाय ने अपना भी एक घोड़ा जमींदार के घोड़ों में शामिल कर दिया, अब घोड़ों की संख्या बीस हो गई थी। जिसके आधे घोड़े यानि कि 10 घोड़े उन्होंने बड़े बेटे को दे दिए, 20 के एक चौथाई यानि पांच घोड़े मझले बेटे को दे दिए, बीस का पांचवा हिस्सा यानि चार घोड़े सबसे छोटे बेटे को दे दिए और बचा हुआ अपना एक घोड़ा फिर से उन्हें वापस भी मिल गया, तो ये है हरियाणा के जाटों के बुद्धिमता।

केवल बुद्धि ही नहीं बल भी हरियाणा के हर एक व्यक्ति में देखने को मिलता है, खेल यहां के लोगों के खून में दौड़ता है इसीलिए हरियाणा को “लैंड ऑफ चैम्पियंस”(Land of Champions) भी कहा जाता है। हरियाणा में भारत की केवल दो प्रतिशत जनसंख्या ही रहती है लेकिन चालीस प्रतिशत मेडल्स सिर्फ हरियाणा के लोग देश के लिए जीतकर लाते हैं।

2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने 38 गोल्ड मेडल्स जीते थे जिसमें से 22 केवल हरियाणा के लोग जीत कर लाए थे। 2012 लंदन ओलंपिक में भारत ने टोटल छः मेडल जीते थे जिसमें से तीन हरियाणा से थे। इसके बाद 2014 कॉमनवेल्थ गेम्स में कुल 64 मेडल्स भारत ने जीते जिसमें 21 हरियाणा के खिलाड़ियों ने अपने नाम किए थे। टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत के 7 मेडल्स में से 3 हरियाणा के थे और कॉमनवेल्थ 2022 में भारत ने 61 मेडल जीते जिसमें से हरियाणा के 20 थे।

यहां के खिलाड़ियों की खेल के प्रति जो भावना है वो सभी के लिए प्रेरणा है। हरियाणा की रानी रामपाल को हमेशा से हॉकी खेलने की इच्छा थी लेकिन पारिवारिक स्थिति उनकी ऐसी नहीं थी जो उनके खेल का खर्चा उठा सके। लेकिन रानी रामपाल रोज पास ही की एकेडमी में लड़कियों को हॉकी खेलते हुए देखती थी, एक दिन एक अमीर लड़की अपनी टूटी हुई हॉकी वहां फेंककर चली गई, तब रानी रामपाल ने उसे उठा लिया और जोड़कर उससे खुद प्रैक्टिस करने लगी। एक दिन कोच ने जब उन्हें प्रैक्टिस करते देखा तो हैरान रह गए उन्हें गाइड करने का फैसला किया। उनके मां बाप से परमिशन लेकर कोच ने उन्हें हॉकी सिखाई, आज वही रानी रामपाल भारत की मेडल विनिंग हॉकी टीम की कप्तान हैं।

हरियाणा की धरती से खेल में भारत का नाम रोशन करने वाले इन खिलाड़ियों की लिस्ट काफी ज्यादा लंबी है, जिसमें कपिल देव, वीरेंद्र सहवाग, विजेंद्र सिंह, गीता और बबिता फोगाट, दीपा मालिक, कृष्ण पूनिया, सुशील कुमार, नीरज चोपड़ा, योगेश्वर दत्त, साइना नेहवाल और बबिता कुमारी जैसी अनगिनत नाम इस लिस्ट में शामिल हैं।

केवल खेल के मैदान में नहीं जंग के मैदान में भी हरियाणा के जाटों का परचम हमेशा से लहराता हुआ आया है। जाटों के बारे में अंग्रेज कहते थे कि “जाट मरा तब मानियो जब तेरहवीं हो जाए”। जाट रेजिमेंट इंडियन आर्मी की सबसे पुरानी रेजीमेंट में से एक है। देश की जनसंख्या का केवल दो प्रतिशत हिस्सा हरियाणा से है लेकिन इंडियन आर्मी के 12 प्रतिशत सैनिक हरियाणा से ही आते हैं।

इसके अलावा मनोरंजन के क्षेत्र में भी हरियाणा बहुत आगे निकल चुका है, हरियाणवी गानों का पूरा देश दीवाना है एक हरियाणवी गाना ” 52 गज का दामन” आज यूट्यूब पर 1.5 बिलियन व्यूज के साथ इंडिया का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला गाना बन चुका है। एशिया का सबसे बड़ा यूट्यूबर “कैरी मिनाटी” भी हरियाणा से ही हैं जिनके यूट्यूब पर आज 40.5 मिलियन सब्सक्राइबर हैं।

हरियाणा लगातार हार क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है, हरियाणा गुजरात और कर्नाटक के बाद वो तीसरा राज्य है जो इकोनॉमी को लेकर सबसे तेजी से आगे बढ़ रहा है। हरियाणा भारत का वो पहला राज्य है जिसके हर गांव में बिजली है, बासमती चावल को एक्सपोर्ट करने वाला हरियाणा आज सबसे बड़ा राज्य बन चुका है। आज हरियाणा देश को एग्रीकल्चर में अकेले 15% का सहयोग कर रहा है।

टेक्नोलॉजी के मामले में भी हरियाणा काफी आगे है देश में चलने वाली 67% कार और 60% मोटर बाइक आज हरियाणा में बनती है, 80% रोड रोलर, कंपैक्टर भी हरियाणा में बनाए जाते हैं। 52% क्रेन और 50% रेफ्रिजरेटर भी हरियाणा में मैन्युफैक्चर किए जाते हैं।

हरियाणा के फरीदाबाद को आज “इंडस्ट्रियल सिटी ऑफ नॉर्थ इंडिया” कहा जाता है। रोहतक में एशिया का सबसे बड़ा कपड़ा मार्केट है, पानीपत में देश की दूसरी सबसे बड़ी ऑयल रिफाइनरी मौजूद है। वहीं बात अगर गुड़गांव की करें को ये इंडस्ट्री और स्टार्टअप्स का हब बन चुका है। वैसे अगर आपका भी स्टार्टअप से जुड़ा कोई सवाल है जिसका जवाब आप ढूंढ नहीं पा रहे हैं तो वो अब आप मुझसे यानि डॉ विवेक बिंद्रा से “बीबी कोच” के जरिए सीधे सीधे पूछ सकते है।

अगर आप हरियाणा के बारे में की गई इस केस स्टडी के बारे में और ज्यादा जनता चाहते हैं तो इस लिंक 10 Shocking Facts About Jaat Community पर क्लिक करके देख सकते हैं।